मिटटी का खेल

Published on by Sharhade Intazar

तूफ़ान भीतर का

तूफ़ान भीतर का

खेल कर मिटटी में मिटटी का खिलौना बना मैं,
खेलती है मिटटी मुझसे किसका बिछौना बना मैं,
नाम हुआ मोहब्बत का किसी दिल का कोना बना मैं,
फिर मिल गया मिटटी में क्यूंकि मिटटी से ही था बना मैं
 

 मन को सुलाने और उठाने का हुनर गर आ जाये,
जाने इंसान कितनी मुश्किलों से निजात पा जाये

 

Comment on this post